पानीपुरी वाला (panipuri Wala) – Story for kids to read

Rate this post

पानीपुरी वाला (Panipuri Wala) – Story for kids to read in hindi:

पानीपुरी खाना तो बच्चों के साथ साथ, बड़ों को भी पसंद होता है और फुल्की वालों को भी, आपने देखा ही होगा| ऐसे ही एक पानीपुरी वाले (panipuri Wala) की, संघर्षपूर्ण जीवन गाथा प्रस्तुत है| रचित के पिता, फुल्की का ठेला लगाते थे लेकिन, रचित एक छोटे से शहर में रहते हुए, एक बड़ा सॉफ़्ट इंजीनियर बनने का सपना देख रहा था| रचित के पिता की आर्थिक स्थिति सामान्य थी इसलिए, रचित आगे की पढ़ाई करने के लिए चिंतित था| बचपन से वह सरकारी स्कूल में, निःशुल्क पड़ रहा था लेकिन, अब रचित कॉलेज पहुँच चुका था और उसे सॉफ़्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए, अच्छे कॉलेज में दाख़िला लेना था लेकिन, उसके हालात चीख चीखकर, उसकी लाचारी प्रस्तुत कर रहे थे| रचित का ऐसा कोई सहारा नहीं था जो, उसे एक बेहतर कॉलेज में दाख़िला दिलवा सकें इसलिए, उसने प्राइवेट तौर पर सरकारी कॉलेज में आवेदन कर दिया और अपनी पढ़ाई करने के लिए, दूसरे शहर जाकर, एक बड़े कॉलेज का चुनाव कर लिया और उसी कॉलेज के बाहर, अपने पिता की तरह, पानीपुरी का ठेला लगाने लगा|

पानीपुरी वाला - Story for kids to read
बच्चो की कहानियाँ

धीरे धीरे रचित की दोस्ती, कॉलेज के लड़कों से होने लगी| रचित उन लड़कों से पढ़ाई के लिए, किताबें लेता और उनको, इसके बदले फुल्की खिला देता| फुल्की बेचना तो, रचित का सिर्फ़ बहाना था| असल में वह पढ़ने के लिए, कॉलेज गया था| कुछ ही महीनों के अंदर, रचित अपनी पढ़ाई में इतना होशियार हो गया था कि, कॉलेज में चल रही सार्वजनिक ज्ञान विज्ञान प्रतियोगिता में, उसने सबसे अच्छे अंक प्राप्त कर, प्रथम स्थान प्राप्त किया| इंजीनियरिंग कॉलेज के लड़कों को, जैसे ही पता चला कि, एक फुल्की वाले ने, उनके कॉलेज की प्रतियोगिता में सभी को पछाड़ दिया तो, वह सभी भागे भागे रचित के पास आकर, ट्यूशन पढ़ाने की ज़िद करने लगे| रचित ने सोचा, “अगर वह इन्हें पढ़ायेगा तो, इनकी किताबों से उसे ही सीखने को मिलता रहेगा|” उसने तुरंत मौक़े को भाँपते हुए, फुल्की का काम बंद करके, लड़कों को ट्यूशन पढ़ाना शुरू कर दिया| रचित दिन में बच्चों को ट्यूशन पढ़ाता लेकिन, रात में वह अपने भविष्य के प्रोजेक्ट पर काम कर रहा था जिसमें, वह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करते हुए, एक ऐसा रोबोट टीचर बना रहा था जो, बच्चों की मानसिक परिस्थितियों को भाँपते हुए, उनके भविष्य के लिए, मार्गदर्शित करे|

panipuri Wala - Story for kids to read
Image by rollymaiquez from Pixabay

कुछ सालों की कड़ी मेहनत से, रचित ने अपना सपना पूरा कर दिखाया| उसने अपने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टीचर को, पेटेंट करवा लिया जैसे ही, रचित के बनाए हुए रोबोट टीचर ने, एक साइंस प्रोग्राम में, अपना कारनामा दिखाना शुरू किया, सभी दर्शक दंग रह गए और वहाँ मौजूद इंटरनेशनल मीडिया कवरेज ने, रचित के बनाए हुए रोबोट को, पूरे विश्व में पहचान दिला दी जिससे, रातोरात रचित की ज़िंदगी बदल गई| रचित के पिता, अपने बेटे की कामयाबी से बहुत ख़ुश थे लेकिन, आज भी वह अपने फुल्की (panipuri) के काम में, आनंद महसूस करते हैं| आज कई स्कूलों में रचित के बनाए हुए रोबोट शिक्षक, बच्चों को पढ़ाने में मददगार सिद्ध हो रहे हैं| रचित ने अपनी अक्लमंद सोच और संघर्षपूर्ण साहस से, शिक्षा प्रणाली को एक नई दिशा दे दी थी और अब रचित के बनाए हुए रोबोट टीचर तैयार थे, बच्चों की क्षमताओं को, पूर्ण विकसित करने के लिए और इसी के साथ कहानी ख़त्म हो जाती है| बच्चों की बहुत सी शिक्षाप्रद कहानियां कहानी इस वेबसाइट पर उपलब्ध है जो युवाओं को प्रेरित करेगी|

Story for kids to read: अपना कल (Apna Kal)
सोने का घोंसला | sone ka ghosla | mystery story

 

Leave a Comment