सारस (Saras ki Kahani)- छोटी कहानी इन हिंदी

3/5 - (2 votes)

सारस (Saras ki Kahani) अति लघु कहानियां- छोटी कहानी इन हिंदी (Emotional story):

जानवरों की छोटी कहानी इन हिंदी, पढ़ना रोमांचक होता है| एक जंगल के किनारे, एक गाँव था| वहाँ आदर्श नाम का एक लड़का रहता था| आदर्श का कोई दोस्त नहीं था इसलिए, ज़्यादातर समय वह पहाड़ी इलाकों में घूमते हुए, अकेले ही गुज़ारता था| एक दिन आदर्श एक पहाड़ी के पास घूम रहा था अचानक, उसे एक छोटा सा सारस पक्षी का, बच्चा दिखाई दिया| उसे देखते ही, आदर्श उसके पास पहुँच गया| सारस घायल था| आदर्श, उसे अपने साथ अपने घर ले आया और उसका इलाज करने लगा| धीरे-धीरे सारस और आदर्श की दोस्ती गहरी होने लगी| आदर्श जहाँ भी जाता, सारस उसके पीछे पीछे उड़ता हुआ पहुँच जाता| आदर्श को सारस के रूप में, एक अच्छा दोस्त मिल चुका था लेकिन, दोनों की दोस्ती ज़्यादा दिनों तक क़ायम न रह सकी| दरअसल, सारस एक विलुप्त प्रजाति का पक्षी है| जैसे ही, प्रशासन को पता चला कि, आदर्श के घर में विलुप्त प्रजाति का पक्षी रह रहा है उन्होंने, सारस को ज़ब्त करके, जीव संग्रहालय भेज दिया|

सारस (Saras ki Kahani)- छोटी कहानी इन हिंदी
Image by Flickr

सारस से बिछड़ते ही, आदर्श दुःखी रहने लगा और यहाँ, आदर्श की जुदाई में सारस की बिगड़ती हालात से, प्रशासन के कान खड़े होने लगे| बड़े से बड़ा डॉक्टर भी, सारस को ठीक नहीं कर पा रहा था| वह सारस की बीमारी का कारण नहीं समझ पा रहे थे| मजबूरी में जीव संग्रहालय के कर्मचारी, आदर्श को बुलाते हैं| आदर्श को देखते ही सारस, अपने पिंजड़े में उछलने लगता है| बहुत दिनों से सारस ने कुछ नहीं खाया था लेकिन, आदर्श के हाथों से वह खाने लगता है| जीव संग्रहालय के अधिकारी, सारस का आदर्श के प्रति प्रेम देखकर, समझ चुके थे कि, यह पक्षी आदर्श पर, पूरी तरह आधारित हो चुका है और यह इसके बिना नहीं रह सकता इसलिए, प्रशासन को सारस, उसे वापस करना पड़ता है और साथ ही, आदर्श को सारस की देखभाल करने का, मासिक ख़र्चा भी सरकारी ख़ज़ाने से दिया जाने लगता है| आदर्श को उसका दोस्त मिल जाता है और दोनों की दोस्ती का फूल दोबारा खिलते ही, कहानी ख़त्म हो जाती है|

परियों की दुनिया – जादू की परी की कहानी (New pari ki kahani story)

Click for छोटी कहानी इन हिंदी | पनौती (Panoti)
Click for more अति लघु कहानियां

Leave a Comment