मोगली मेरा दोस्त – Mowgli ki Kahani

Rate this post

मोगली मेरा दोस्त – Mowgli ki Kahani in hindi

मोगली बच्चों का चहेता कार्टून कैरक्टर है जिसे, बच्चे बहुत पसंद करते हैं| इसी से प्रेरित होकर, मोगली मेरा दोस्त, एक प्रेरणादायक कहानी(Mowgli ki Kahani), प्रस्तुत है| रॉय को TV में कार्टून देखना, बहुत पसंद था| रॉय सिर्फ़ सात साल का था| उसे सबसे ज़्यादा, मोगली के वीडियो देखना पसंद था| उसने इतनी सी उम्र में, मोगली के लगभग, सभी एपिसोड देखे लिए थे| रॉय के दिमाग़ में, पूरे टाइम मोगली ही घूमता रहता था| उसके दिमाग़ में, मोगली बनने का, भूत सवार हो चुका था| जिसके चलते, एक दिन रॉय, मोगली की तरह, जंगल में जाकर, जानवरों के साथ, रहने का मन बना लेता है| वह बिना किसी से बताए, चुपचाप सुबह सुबह, अपने घर से, जंगल की ओर निकल जाता है| रॉय जंगल को, TV में दिखाए गए, जंगल की तरह ही समझ रहा था लेकिन, उसकी मुश्किलें बढ़ने वाली थी| उसे अंदाज़ा नहीं था कि, नादानी में उसने, कितना ख़तरनाक क़दम उठा लिया था| रॉय धीरे धीरे जंगल के अंदर बढ़ते हुए, एक खंडहर तक पहुँच जाता है| खंडहर बहुत पुराना था| रॉय खंडहर के अंदर चला जाता है| उसे अंदर बहुत से चमगादड़, उल्टा लटके हुए दिखाई देते हैं| जिन्हें देखकर, वह चिल्लाते हुए, खंडहर के बाहर आ जाता है| जंगल में रॉय का पहला अनुभव, डरावना था जिससे, रॉय कांपने लगता है| अब उसकी हिम्मत टूटने लगती है| जंगल के अंदर, वह मोगली की तलाश में आया था लेकिन, उसे क्या पता, यहाँ ख़ूँख़ार जानवरों के अलावा और कुछ नहीं मिलने वाला था| वह धीरे धीरे आगे बढ़ता है| आगे पहुँचते ही, उसे हिरणों का एक झुंड दिखाई देता है|

Mowgli ki Kahani
wallpaper flare

वह जैसे ही, उनके पास पहुँचता है, हिरण वहाँ से, दौड़ लगाकर भाग जाते हैं| रॉय उन्हें भागता देख ख़ुश होता है| रॉय, हिरणों का पीछा कर ही रहा होता है कि, उसी बीच एक शेर भी, हिरण के झुंड के पीछे लग जाता है| शेर को देखते ही, रॉय वहीं रुक जाता है| शेर काफ़ी देर तक, हिरणों का पीछा करता है, लेकिन वह, उनका शिकार करने में असफल हो जाता है| शेर भूखा था इसलिए, वह रॉय की तरफ़ तेज़ी से बढ़ता है| रॉय शेर को अपनी तरफ़ आता देख, भागने लगता है| लेकिन रॉय सिर्फ़ 7 साल का बच्चा था और वैसे भी, शेर से ज़्यादा भागने की क्षमता, इन्सान के पास नहीं होती| भागते हुए, रॉय का पैर फँस जाता है और वह, वहीं गिर जाता है| शेर अगले ही पल, रॉय के पास पहुँच जाता है और उसके चारों तरफ़, दहाड़ते हुए चक्कर लगाने लगता है| इसी बीच, एक बड़ा सा भालु, शेर के ऊपर कूद पड़ता है| शेर सँभल पाता, इससे पहले भालू उस पर हावी हो जाता है| शेर पूरी ताक़त से, भालू का सामना करता है लेकिन, बच्चे को रोता देखकर, भालू के अंदर, एक अलग सी फुर्ती आ जाती है| वह ज़ोरदार हमले से, शेर को घायल कर देता है| इसी बीच, शेर रॉय का शिकार करने के लिए, कई बार कोशिश करता है लेकिन, भालू के सामने, उसकी हर कोशिश, नाकाम हो जाती है| शेर से लड़ते वक़्त, भालू को भी थोड़ा बहुत चोट आती है लेकिन, भालू अपनी बहादुरी से, शेर को भगा देता है| रॉय, यह नज़ारा देखकर डर जाता है| उसे लगता है, “भालू, अब उसे नहीं छोड़ेगा|” लेकिन, रॉय की सोच से उलट, भालु उसकी रक्षा करने के लिए, उसके पास बैठ जाता है और इंसानों को बुलाने के लिए, ज़ोर ज़ोर से आवाज़ लगाने लगता है| भालू की आवाज़ सुनकर, वन विभाग के अधिकारी, कुछ ही देर में, उसके पास पहुँच जाते हैं लेकिन, भालू के पास पहुँचते ही, उनकी नज़र रॉय पर पड़ती है जिसके, चारों तरफ़ भालू खून से लतपत,
चक्कर लगा रहा था| उन्हें कुछ समझ में नहीं आता, वह बच्चे को बचाने के लिए, अपनी बंदूक से, भालू पर गोली चला देते हैं| गोली लगते ही, भालू वहीं गिर जाता है और अपना दम तोड़ देता है|

मोगली मेरा दोस्त
Flickr

वह तुरंत, रॉय को अपनी गाड़ी में उठाकर, सुरक्षित बाहर ले जाते हैं| जहाँ वह, पुलिस को सारे मामले की ख़बर देते हैं| जंगल में, भालू की मौत की ख़बर, मीडिया के लिए, एक बड़ा मुद्दा बन जाती है| तभी मीडिया, वन विभाग के अधिकारियों से, भालू की मौत का कारण पूछती है| अधिकारी मीडिया के सामने, इंटरव्यू देते हुए, अपनी सफ़ाई में कहते हैं कि, “ऐसी परिस्थिति में, वह भालू को बेहोश करने का ख़तरा, नहीं उठा सकते थे क्योंकि, बेहोश होने से पहले भालू, बच्चे को नुक़सान पहुँचा सकता था इसलिए, मजबूरी में उन्हें, भालू के सर में गोली मारनी पड़ी| मीडिया के लोग, रॉय से भी मिलने की ज़िद करते हैं लेकिन, अधिकारी उन्हें रॉय से नहीं मिलने देते क्योंकि, रॉय अवयस्क था और उसके माता पिता की इजाज़त के बिना, उसे मीडिया में नहीं लाया जा सकता था लेकिन, जैसे ही, रॉय के माता पिता को यह ख़बर मिलती है| वह अपने बच्चे से मिलने, पुलिस स्टेशन पहुँच जाते हैं और रॉय को, प्यार से गले लगा लेते हैं| रॉय, अपने माता पिता से मिलकर, रोने लगता है| इसी बीच मीडिया, रॉय के माता पिता का इंटरव्यू लेने की कोशिश करने लगती है| दोनों, रॉय को कैमरे के सामने, जंगल की सारी बात बताने को कहते हैं| रॉय मीडिया को जंगल में हुई घटना की, पूरी सच्चाई बता देता है| जैसे ही, मीडिया को पता चलता है कि, भालू ने ही बच्चे को बचाया था| वह अधिकारियों को सजा देने की माँग करने लगते हैं| मीडिया के दबाव की वजह से, अधिकारियों को, उनकी नौकरी से निलंबित कर दिया जाता है लेकिन, इस घटना ने एक जानवर का, इंसान के प्रति रक्षात्मक रवैया प्रस्तुत किया था जो, अपने आप में, मिसाल बन चुका था| रॉय के लिए, यह घटना मोगली की कहानी (Mowgli ki Kahani) से कम रोमांचक नहीं थी|

मुर्गी का बच्चा – मुर्गी की कहानी
रहस्यमय दरवाजा | rahasyamayi darwaza | best kahani

 

Leave a Comment