हाथी – Hathi ki Kahani

Rate this post

हाथी – Hathi ki Kahani in hindi

हाथी पूरी पृथ्वी का सबसे महत्वपूर्ण प्राणी है जो, जंगल में अपना जीवन व्यतीत करता है| हाथी का महत्व बताने के लिए, यह कहानी आपकी सहायता करेगी| एक जंगल में वनवासियों का एक इलाक़ा था| कोयले के उत्पादन के लिए, यह जंगल, विलुप्त होने जा रहा था| दरअसल जंगल की मिट्टी की खोज करने के बाद, अंदर भारी मात्रा में, कोयले का पता चला था| साथ ही, और खनिजों के, मिलने की भी संभावना थी लेकिन, इस जंगल में पूरे पृथ्वी की तुलना में, सबसे ज़्यादा हाथी पाए जाते थे जिन्हें, दूसरे जंगल में ले जाना, एक बहुत बड़ी चुनौती थी क्योंकि, हाथी कई सालों से, इस जंगल की परिस्थिति के अनुकूल, अपने आपको ढाल चुके थे| हाथी कहीं और रह पाएंगे, या नहीं, इसका पता करने के लिए, जीव वैज्ञानिकों ने, एक हाथी को, परीक्षण के तौर पर, दूसरे जंगल भेजने की योजना बनायी लेकिन, जंगल से हाथी को पकड़ना, आसान काम नहीं था| जंगल में रहने वाले वनवासियों ने, बाहरी लोगों का प्रवेश वर्जित किया था| एक दिन सफ़ारी गाड़ी में बैठकर, कुछ शिकारी, जंगल के अंदर हाथियों का मुआयना करने आते हैं लेकिन, वनवासियों के लगाए हुए जाल में, आकर फँस जाते हैं| उनकी गाड़ी एक गहरे गड्ढे में जाकर गिरती है और ऊपर से, एक विशाल पेड़, गड्ढे को बंद कर देता है| शिकारी, मदद के लिए, चिल्ला ही रहे होते हैं कि, एक हाथी, पेड़ को घसीटकर, गड्ढे से हटा देता है और दूसरा हाथी, शिकारियों की गाड़ी को, ऊपर खींच लेता है|

हाथी Elephant story in hindi
Image by stbaumgaertner from Pixabay

शिकारी, हाथियों का ऐसा बर्ताव देखकर, अचंभित रह जाते हैं| वह काफ़ी घबराए हुए थे इसलिए, वहाँ से जल्दबाज़ी में, अपनी गाड़ी छोड़कर, पैदल ही जंगल से बाहर निकल जाते हैं| इस घटना के कुछ महीनों बाद, कॉलेज के विद्यार्थियों का एक समूह, जंगल में हाथियों के ऊपर, डॉक्यूमेंट्री बनाने के लिए आता है| विद्यार्थियों को, पूरी सुरक्षा के साथ, जंगल के अंदर लाया गया था| सभी छात्र छात्राएँ हाथियों की फोटोग्राफ़ी कर रहे थे और जंगल से, हाथियों के बारे में, जानकारी इकट्ठी करने में लगे थे| इसी बीच, वनवासियों का दल, उन्हें घेर लेता है और उन्हें पकड़कर, अपने साथ, अपने इलाक़े में ले जाता है| वनवासी, विद्यार्थियों को भी, हाथियों का दुश्मन समझ रहे थे| हालाँकि, विद्यार्थियों के बीच में, एक ऐसे शिक्षक भी थे जो, वनवासियों की सांकेतिक भाषा, समझते थे| उन्होंने वनवासियों से बात करने का प्रयास किया लेकिन, वनवासी, किसी तरह से बात करने को तैयार नहीं थे| वनवासियों का कहना था कि, “तुम्हारी ज़िंदगी का फ़ैसला, हमारे समूह के राजा ही करेंगे| तब तक, तुम लोग अपना मुह बंद रखो| तुम्हें किसने हक़ दिया, इस जंगल के अंदर आने का? वैसे भी, तुम लोगों की वजह से, हाथियों की प्रजाति, विलुप्त होती जा रही है और तुम, इस आख़िरी, हाथियों के बचे हुए जंगल को भी, अपनी ज़रूरतों के लिए, नष्ट करना चाहते हो| तुम शायद नहीं जानते, हाथी हमारे जीने के लिए, सबसे ज़्यादा ज़रूरी है क्योंकि, हाथी के मल(shit) से ही, ये विशाल जंगल तैयार होते हैं| प्रकृति का चक्र चलता रहे, जिसके लिए, सभी पशु पक्षियों व जीव जन्तुओं का रहना, अनिवार्य है लेकिन, सभी में से, हाथी ही सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि, यह पर्यावरण को, बचाए रखने में सहायक है| इसी बीच शिक्षक, आदिवासियों को समझाते हैं कि, “वह हाथियों को नुक़सान पहुँचाने नहीं, बल्कि उन पर, डॉक्यूमेंट्री बनाने आए थे|” तभी वनवासियों का राजा, अपने सिंहासन पर आकर बैठता है|

हाथी - Hathi ki Kahani
Image by Gioele Fazzeri from Pixabay

राजा, अपने समूह के व्यक्ति की बात सुनकर, शिक्षक को, हाथी के सामने, फेंकने का आदेश दे देता है| यह बात सुनते ही, सारे बच्चे रोने लगते हैं| बच्चों की आँखों में आँसू देख, राजा का दिल, पिघल जाता है और वह हाथियों को रोकने को कहता है| उसे लगता है कि, “उसके फ़ैसले में, कोई गलती तो नहीं हो गई क्योंकि, इतने सारे बच्चे, यदि दुखी है तो, वह फ़ैसला, अच्छा कैसे हो सकता है? राजा तुरंत शिक्षक को, सबके सामने अपनी बात रखने का, मौक़ा देता है| शिक्षक काफ़ी घबरा चुके थे| वह अपने इशारों में, राजा को यह बताते हैं कि, वह बच्चों को सिर्फ़ हाथियों के बारे में जानकारी देने के लिए, जंगल लाए थे, इससे ज़्यादा, वह और कुछ नहीं करना चाहते थे| दरअसल वह भी, जंगलों को कटने से रोकना चाहते हैं ताकि, हाथियों को बचाया जा सके| वनवासी शिक्षक के इशारे को धीरे धीरे समझ रहे थे| शिक्षक उन्हें इशारों में कहते हैं कि, वह लोग हाथियों के संरक्षण के लिए, क़ानून बनवाना चाह रहे हैं ताकि, कोई भी बाहरी लोग, इस जंगल में कभी भी, नुक़सान के इरादे से न आएँ और इसलिए, वह कॉलेज के बच्चों को, इस आंदोलन में शामिल कर रहे हैं| जिसके लिए वह डॉक्यूमेंट्री बना रहे थे| वनवासियों का राजा, सारी बात समझ कर, शिक्षक को गले लगाते हैं और उनसे, माफ़ी माँगते हुए, डॉक्यूमेंट्री से संबंधित, सारी जानकारी देते हैं और सारे बच्चों के साथ, उन्हें जंगल से, फलों का उपहार देकर, बाहर भेज देते हैं और जैसे ही, बच्चों की डॉक्यूमेंट्री, मीडिया में दिखाई जाती है| उसका बहुत बड़ा असर होता है| छोटा सा आंदोलन, एक विशाल रूप ले ले लेता है| जनता के दबाव के कारण, सरकार को अपना फ़ैसला बदलना पड़ता है और कोयले के खनन के लिए, जंगलों को काटने की प्रक्रिया, अनिश्चितकाल तक, स्थगित कर दी जाती है और कुछ वक़्त के लिए ही सही, लेकिन हाथियों का जीवन सुरक्षित हो जाता है|

बुद्धिमान बंदर – बंदर की कहानी
Kahani in hindi
ऑनलाइन खिलाड़ी | Online player | motivation story hindi

 

 

Leave a Comment